Seven Times News

what they forgot to cover

शेष – विशेष

अरविन्द शेष का अपने बारे में कहना है 

“फिलहाल जनसत्ता की नौकरी और इसके अलावा कभी-कभार कहानियां लिखने और पढ़ने-लिखने में रुचि बनाए रखने की कोशिश करता रहता हूं। भावुक और विचारों से पूरी तरह नास्तिक हूँ । (स्पष्टीकरणः मेरे विचारों का मेरी नौकरी की जगह से कोई संबंध नहीं है।)”

कुंठित-पुरुषवाद-अजन्मी-बेटियों-को-भी-नहीं-बख्शता

कुंठित-पुरुषवाद-अजन्मी-बेटियों-को-भी-नहीं-बख्शता

मानेसर-मारुति कांडः यकीनन साजिश, लेकिन किसकी…?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 350 other followers

Categories

%d bloggers like this: